रविवार, 14 दिसंबर 2014

870-उनसे करना बात ..........

उनसे करना बात ..........

उनसे करना बात अच्छा लगता है 
उनके रहना साथ अच्छा लगता है

जिंदगी तो अकेले ही कट जायगी
उनसे हो मुलाकात अच्छा लगता है

मिलती है जब उनकी नज़रों से नज़रे 
देखना रुख़ ए माहताब अच्छा लगता हैं

हमे पंखुरियों में उलझने की आदत है
उनका रखना एहतियात अच्छा लगता है

उनके ख्वाबों ख्याल में मै ही रहता हूँ
फिर भी देना इंतिबाह अच्छा लगता है

किशोर कुमार खोरेंद्र

एहतियात=सावधानी ,इंतिबाह=चेतावनी

कोई टिप्पणी नहीं: