रविवार, 26 अक्तूबर 2014

823-"मंझधार"

"मंझधार"

बिना शब्दों के तुझे लिखने लगा हूँ 
क्षितिज से मै तुझे दिखने लगा हूँ

शमा बनकर तू जल उठी है 
मै परवाने सा मिटने लगा हूँ

जगमगाती सड़कें रात भर खामोश ही रहे 
टिमटिमाते तारों के कहने पर चलने लगा हूँ

झील की सतह पर चाँद उतर आया है
तेरी आँखों में परछाई सा उभरने लगा हूँ

दर्द के सागर से यादों की एक तेज लहर आई है
साथ साथ उसके अब मैं मंझधार में बहने लगा हूँ

किशोर कुमार खोरेंद्र

कोई टिप्पणी नहीं: