गुरुवार, 16 जनवरी 2014

743-"निर्णय"

"निर्णय"
 

न उसने कुछ कहा
न मैंने कुछ कहा
लेकिन कुछ न कहने के मौन ने ही
सब कुछ कह दिया

न उसने मुझे देखा न मैंने उसे देखा
इस न देखने की कनखियों ने
सब कुछ दिखा दिया

न उसने मुझसे पूछा
मेरा नाम और पता
न मैंने उससे पूछा
उसका नाम और पता
लेकिन बिना नाम और पते के भी
दो अजनबियों का
गहराई से परिचय हो गया

फिर हम अलग हो गए
कभी न मिलने के निर्णय के साथ
इस निर्णय ने हमें
पर अटूट रूप से जोड़ दिया
किशोर

कोई टिप्पणी नहीं: