मंगलवार, 19 नवंबर 2013

716-"यादो के तिनकों से

"यादो के तिनकों से"

तुम वही हो एक चेहरा

ख्यालों से कहता हूँ अक्सर

जिस पर अधिकार हैं सिर्फ मेरा

व्यतीत हो जायेगा जीवन

अंतिम साँस लेने से पहले

कह दूंगा मन कों

ओंठों पर न आने देना ..

नाम ....तुम्हारा

इस जग में आकर

एक तस्वीर तुम्हारी ..

अपनी आँखों में बसाए

चुपचाप ...चल दूंगा

तुम्हारी यादो के तिनकों से



बनाउंगा नीड़ ...इस जहाँ में

पुनह: एक सुनहरा

किशोर

कोई टिप्पणी नहीं: