गुरुवार, 14 फ़रवरी 2013

610-बसंत ऋतु का ...जब हुआ आगमन


सभी को ....
भाने लगा यह मौसम 
बहने  लगा शीतल पवन 
मनमोहक हुआ 
सम्पूर्ण वातावरण 
बसंत ऋतु  का ...
जब हुआ आगमन 
खिलते ही पुष्पों के 
धरती गयी निखर 
सरसों सा पिला रंग 
चहुँ और गया बिखर 
सीने में अपने प्यार लिए 
बहने लगे फिर से निर्झर 
नवं -उमंग से 
भर उठा सबका जीवन 
बसंत ऋतू का 
जब हुआ आगमन 
मदहोश हो गए अन्तरंग भाव 
छिपूँ कहाँ सोच रही छाँव 
एक दूजे  को 
 निहारने लगे एकटक 
प्रेमी  युगलों के नयन 
बसंत ऋतू का 
जब हुआ आगमन 
@किशोर कुमार खोरेन्द्र 

कोई टिप्पणी नहीं: