शुक्रवार, 12 फ़रवरी 2010

पुल से तुम्हारे घर तक

पुल से तुम्हारे घर तक
पहुंची ..सड़क पर
मै
कभी नही चला हू
पुल तक आकर ...
लौटते हुवे मै ...
तुम्हें देखे बिना ....ही ...यह मान लिया करता हू
कि -
मैंने तुम्हें देख लिया है
मुझे लेकिन हर बार -
यही लगता है की -
बंद खिडकियों के पीछे ...
खडी हुवी तुम -
हर प्रात:
हर शाम
उगते और डूबते हुवे .....सूरज की तरह ..मुझे
जरूर देखती रही हो

सड़क के किनारे खड़े वृक्ष भी
अब
मुझे पहचानने लगे है
पत्तिया मेरे मन की किताब मे लिखी जा रही
कविताओ कों पढ़ ही लेती है
पुल पर बिछी सड़क कों
मेरी सादगी और भोलेपन से प्यार हो गया है
मेरे घर की मेज पर -जलता हुवा लैम्प
मुझसे पूछता है ..

क्या तुम्हारी कविता कभी समाप्त नही होगी ...?
मेरा चश्मा ...मेरी आँखों मे भर आये आंसूओ कों
छूना चाहता है
पर उसके पास भी हाथ नही है
काश तुम्हारी आँखों की रोशनी के हाथ लम्बे होते
और तुम मुझे छू पाती ......

किशोर





कोई टिप्पणी नहीं: