बुधवार, 20 जनवरी 2010


प्यार की जमीन के अंतिम छोर ने


मुझे लौटते हुवे देखा


आकाश की ऊँचाईयों se


jhuk aaye

कोई टिप्पणी नहीं: