मंगलवार, 12 जनवरी 2010

कहा जा पाओगे

विचारों के मन के आकाश के बादलो

की दीवारों से घिरे

धरती सा ...

आँगन के घर कों छोड़ को

कहा जा पाओगे

पूछता है मुझसे मेरी अंतर -आत्मा का मौन

फ़ीर आओगे लौट

किशोर

कोई टिप्पणी नहीं: