रविवार, 15 नवंबर 2009

मुझे तुमसे प्यार है


मुझे तुमसे है प्यार


यह कहना है अपराध


प्यार मे मित्रता


या


मित्रता मे प्यार


शामिल हो जाए


तो उसे भूल कर भी न बताना


यही है जीवन का सार


न चाहते हुवे भी


ऐसा लेकिन

हो जाता है


हर कोई किसी न किसी को


चाहने लग जाता है


यह चाहत -एक बहुत उची है दीवार


या


एक है गहरी खाई


और हम सभी को


जाना है उस पार


पूजा पत्थरो की करते रहो


जीवन व्यतीत करने का


यह तरीका है सबसे आसान


मनुष्यों से प्रेम की


उम्मीद करना है बेकार


मुझे तुमसे है प्यार


यह कहना है अपराध


किशोर




कोई टिप्पणी नहीं: