मंगलवार, 17 नवंबर 2009

रश्मी जी की कविताएं

मेरी भावनाए ,आदमी वही है , बहुत देर हुवी ,

बुनियाद , जरुरी है ,समझौता , मुश्किल है

सत्य ,अनभिग्य , कशिश ,मूल्यांकन

विरक्ति ,..मुजरिम , निस्तेज ,

{उससे पहले ,}इसे जानो ,ओस से रिश्ते

कुछ हुवा है ,विश्वाश करो

जाने कहाँ गए

तलाश

विश्वाश

प्रभु की बारी

माँ तुमने क्या किया

एक लड़की

एक बेचारा आदमी

सीख लोगे

एक प्रश्न

कोई टिप्पणी नहीं: