गुरुवार, 21 मई 2009

बहुत प्यार होगा

1बुखार नही होगा
एक उन्हें
कमजोरी का अहसास होगा

२-काम बहुत करती है
काम भी डर से कापते हुवे
उन्ही के
आस-पास होगा

३-वो ख़ुद को
अपनी
एक अनलिखी
कविता की तरह
पढ़ रही होंगी
उस कविता मे
कुछ न कुछ ख़ास होगा


४-या
एक नया
रंग चुरा रही होंगी
इन्द्र -धनुष से
इस बार
उनकी साडीयो मे
प्रेम और ममता का
नया -मिश्रित्त
रंगीन आभास होगा


५-भीतर ही भीतर
बुन रहा होगा
इस तरह से कुछ
नूतन
उनका मन
रंग और शब्दों को भी
लगता है
उनसे
बहुत प्यार होगा

{किशोर ]

कोई टिप्पणी नहीं: