रविवार, 17 मई 2009

कतरा कतरा शायर हू

१-कतरा कतरा हसीं शायर हू
कतरा कतरा तेरा ही प्यार हू


२-जर्रा जर्रा टुटा हुवा तारा हू
तू पूर्ण आत्मा मै अधूरी काया हु

कोई टिप्पणी नहीं: