शनिवार, 25 अप्रैल 2009

१३३-आपको शादी मे गलतिया दोहराने की जरुरत नही है

१-विवाह स्त्री और पुरूष का मेल है ,जो प्रेम की डोर से आपस मे बंधते है

उनके दिल एक होकर धड़कते है ,और वे आगे ,ऊपर तथा ईश्वर की तरफ़ बढ़ते है

२-मानसिक और आध्यात्मिक नियमो का अज्ञान- ही सारे वैवाहिक दुखो का

कारण है /

३-चिडचिडा जीवन साथी आम तौर पर ध्यान और सम्मान चाहता है /वह प्रेम और स्नेह का भूखा होता है उसे दिखाए की आप उससे प्रेम करते है ,और उसकी सराहना करते है /

४-वैवाहिक समस्याओ मे हमेशा विशेषग्य की सलाह ले /

५-एक साथ प्राथना करेंगे तो एक साथ बने रहेंगे /

६-आपको शादी मे गलतिया दोहराने की जरुरत नही है विश्वाश करे आपको जीवन साथी आपकी कल्पना के अनुरूप ही मिला है ...या मिलेगा /
{डाक्टर जोसेफ मर्फी ने बताया }
संकलन -करता ...किशोर कुमार खोरेन्द्र

कोई टिप्पणी नहीं: