रविवार, 5 अप्रैल 2009

प्रतिक्रियाये

१-सब दिल्प मे एक सार ----

"अभिषेक":

सादर नमस्कार महोदय,
बहुत खूब, क्या बात है।

*** Vibha:

JSRK
hru?
ya aapki likhi kavita padhi maine achhi hai par thodi mushkil hai

कोई टिप्पणी नहीं: