बुधवार, 11 मार्च 2009

होली पर ......कविता पर प्रतिक्रियाये

Girish:
बच्चो के मन , पलाश से खिले -खिले...........सुंदर गुरु कवि हकीम ..:
शुक्रीया दोस्त और होली आपको और आपके परिवार कों भी बहुत बहुत मुबारक...

2 टिप्‍पणियां:

समयचक्र - महेन्द्र मिश्र ने कहा…

बहुत उम्दा सटीक
धन्यवाद.होली की मुबारकबाद

kishor kumar khorendra ने कहा…

dhnyvaad .mahendra ji