शुक्रवार, 20 मार्च 2009

१०१-तुम रहती हो

तुम रहती हो

संग मेरे भरे -भरे

तट की बाहों मे जैसे नदी का जल बहे

jaanaa

कोई टिप्पणी नहीं: