मंगलवार, 3 मार्च 2009

प्रतिक्रिया ..०३-०३-09

Avdhesh S Yadav:
नहीं नहीं श्रीमान ...........आप भी बहुत अच्छा लिखते है , में तो बस यु ही .....आप सबका प्यार बना रहे यही काफी है २-........**sahzadi**:
बिलकुल आप अपनी रचना भेज सकते है,परन्तु इसके लिए आपको अनुमति कि क्या आवश्यकता है,आपकी कविता इतने मनमोहक होते है कि उसे बार-बार पढने कि चाहत होती है... ३-.....**sahzadi**:
मैंने आपकी कवितायेँ पढ़ी,अतिसुंदर....!!! ४-Avdhesh S Yadav:
बहुत ही अच्छा लिखते है आप ...५-....**sahzadi**:
सुप्रभात अंकल जी,मैं कुछ दिनों के लिए अपने ससुराल गयी थी आपकी रचनायें मैंने पढ़ी ,आपकी कवितायेँ बहुत गहरी बातें कहती ,मुझे बहुत अच्छी लगी ...६-...Jenny:
किशोर जी,बहुत सही कहा एकांत तो बहुत ही जरुरी है, खुद केलिए और आत्म-विवेचना केलिए धन्यवाद् .....७-.....योगेश:
बहुत अच्छी हैं आपकी कवितायेँ .. बधाई है मेरी ओउर से आपको..

कोई टिप्पणी नहीं: