शुक्रवार, 27 फ़रवरी 2009

prtikriya

Jenny:
bahut sahi sir, kavi ki kavita hi to uski diary hoti hai. aapki rachnayen bahut khoobsurat hai. badhai kubool karen. meri rachnaon ko padhne aur tippani dene keliye shukriya. yun hin marg darshan dete rahen. shubhkamnayen. Jenny:
kishor ji, aapki ye rachna behad pasand aai...किसी कवी की कवीता पड़कर ..तृप्त होना कवीता है ,..कवीता न लिख पाऊ ,पर ..कलम लेकर बैट जाऊ ,...और कोरे पृष्ट को देखता रहू ,.यह भी एक कवीता है ...कवीता शब्दों में ,कवी में या किताबो में बंद नही है ,...कवीता तोस्म्पूर्ण आदमी के भीतर है ,..समय से उसका अनुबंध है ....आखरी कवीता का ...सबको इंतजार है ...{किशोर कुमार खोरेंद्र } meri rachnayen aap padh rahe, mujhe khushi hui. sarahna nahi sir aapka margdarshan chahiye, taaki mai bhi apni rachna me sudhar kar sakun, aur likhna jaari rakh sakun.

कोई टिप्पणी नहीं: