बुधवार, 18 फ़रवरी 2009

पेड़ की पत्तियों पर छपी है कविता पर कमेंट्स


Feb 18 (21 hours ago)
अमन
..
sir apki rchna man tal pahuchti hain, sach me

8:14 pm (13 hours ago)
श्रद्धा
aapki soch bhaut alag bahut ghari haijab jab aapko pada hai aapki soch ki udaan se prabhvit hui hoon

8:18 pm (13 hours ago)
कवि धीरेन्द्र
bahut hi achchha .अद्भुत

कोई टिप्पणी नहीं: