सोमवार, 16 फ़रवरी 2009

देह को ...

मन्दिर की सीढियों पर चड़ने से पहले॥देह को जूतों के करीब मैंने रख दिया {kishor kumar khrendr }

कोई टिप्पणी नहीं: